बीदर का मामला

23


संस्था में सीएए और एनआरसी के खिलाफ एक नाटक का मंचन करने के आरोप में शाहीन स्कूल की हेडमिस्ट्रेस और 9 साल के छात्र की माँ – दो महिलाओं के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया।

कर्नाटक पुलिस ने स्कूली छात्रों से पूछताछ की, जो एनआरसी, एनआरसी के विरोधी थे। (इंडिया टुडे इमेज)

कर्नाटक के बिहार के शाहीन स्कूल में दो महिलाओं को नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटिज़न्स (NRC) के खिलाफ़ जेल भेज दिया गया।

संस्था में सीएए और एनआरसी के खिलाफ एक नाटक का मंचन करने के आरोप में शाहीन स्कूल की हेडमिस्ट्रेस और 9 साल के छात्र की माँ – दो महिलाओं के खिलाफ एक राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया था।

इस नाटक ने सीएए और एनआरसी पर खराब रोशनी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कथित रूप से चित्रित किया था। दोनों को शुक्रवार को जमानत दे दी गई।

नाटक में भाग लेने वाली लड़की की माँ 26 वर्षीय नाज़ुन्निसा, और शाहीन स्कूल की हेडटेकर 52 वर्षीय फरीदा बेगम, जिन्होंने इसका मंचन किया, को बिदर न्यू टाउन पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने गिरफ्तार कर लिया।

दोनों को धारा 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान), 505 (2) (शत्रुओं के बीच दुश्मनी, नफरत या बीमार इच्छाशक्ति पैदा करने या बढ़ावा देने वाले), 124 ए (देशद्रोह), 153 ए (पदोन्नति, प्रयास) के तहत दर्ज किया गया था। आईपीसी को बढ़ावा देना) और 34 (आम इरादे)।

खेल के लिए समाचार, अद्यतन, लाइव स्कोर और क्रिकेट जुड़नार, पर लॉग इन करें indiatoday.in/sports। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक या हमें फॉलो करें ट्विटर के लिये खेल समाचार, स्कोर और अद्यतन।
वास्तविक समय अलर्ट प्राप्त करें और सभी समाचार ऑल-न्यू इंडिया टुडे ऐप के साथ अपने फोन पर। वहाँ से डाउनलोड

  • एंड्रिओड ऐप
  • आईओएस ऐप





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here